पूर्व सैनिकों की मदद

सरहद पर हालात हमेशा मुश्किल होते हैं इसकी वजह जितना दुश्मन है उतनी ही है परिवार से दूर रहने का दर्द और परिवार की चिंता . देश का सैनिक अपनी जान की बाजी लगाकर देश और देशवासियों की सुरक्षा के लिए अपने प्राण न्योछावर कर देता है,प्रकृति के सबसे क्रूर रूप का सामना करता है .
ऐसी स्तिथि को खुद सेना में समय बिता चुके सेवानिवृत्त ले. कर्नल विजय तोमर बखूबी समझते हैं और यही वजह है की वह समोत्कर्ष के माध्यम से सैनिक परिवारों की हर संभव मदद करने को तैयार रहते हैं .
समोत्कर्ष ने अब तक सैकड़ों सैनिक परिवारों को मुश्किल समय में हौसला दिया है और यह काम हम निरंतर करते रहेंगे क्यूंकि देश के जवानों के लिए हम जितना भी कर सकें कम है .

Add Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×